Skip to content

UPSC क्या है? | जानिए UPSC का महत्व

padhai

क्या आपने कभी सोचा है कि UPSC क्या है? और इसका आपके करियर में कैसे महत्व हो सकता है? संघ लोक सेवा आयोग, जिसे UPSC के रूप में जाना जाता है, एक ऐसा माध्यम है जो आपको आपके पेशेवर सपनों की पूर्ति के लिए एक अद्वितीय मंच प्रदान कर सकता है।

UPSC क्या है?

UPSC का फुल फॉर्म Union Public Service Commission है और हिंदी में इसे संघ लोक सेवा आयोग कहते हैं। UPSC एक संघीय (Central Govt.) संस्था है जो भारत में केंद्रीय और राज्य सरकार के तहत 24 सेवाओं के लिए राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगी परीक्षाएं आयोजित करता है। UPSC की स्थापना 1 अक्टूबर 1926 को हुई थी और इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है।

UPSC के अंतर्गत आने वाली प्रमुख सेवाएं | Main Services Under UPSC

UPSC के अंतर्गत 24 सेवाओं में से कुछ प्रमुख सेवाएं निम्नलिखित हैं:

Some of the main services among the 24 services under UPSC are as follows:

  • Indian Administrative Service (IAS):आई. ए. एस. अधिकारी भारत में विभिन्न विभागों के अंतर्गत या जिलों के प्रशासन और शासन के लिए जिम्मेदार होते हैं। वे अंतर्राष्ट्रीय मंचों और संगठनों में भी भारत का प्रतिनिधित्व करते हैं।
  • Indian Police Service (IPS):आई. पी. एस. अधिकारी भारत में कानून और व्यवस्था, सुरक्षा और सार्वजनिक सुरक्षा बनाए रखने के लिए जिम्मेदार होता हैं। ये विभिन्न अर्धसैनिक बलों और खुफिया एजेंसियों का भी नेतृत्व करते हैं।
  • Indian Foreign Service (IFS):आई. एफ. एस. अधिकारी विदेशों में भारत के हितों और नीतियों का प्रतिनिधित्व करता हैं। ये अन्य देशों के साथ राजनयिक संबंध (diplomatic relations) , व्यापार, सांस्कृतिक आदान-प्रदान और अन्य मामलों को भी संभालते हैं।
  • Indian Revenue Service (IRS): आई. आर. एस. अधिकारी केंद्र सरकार के करों और राजस्व संग्रह और प्रबंधन के लिए जिम्मेदार होते हैं। ये कर कानूनों को भी लागू करते हैं और कर चोरी और धोखाधड़ी को रोकते हैं।
  • Indian Forest Service (IFoS):आई. एफ. ओ. एस. अधिकारी भारत के वन संसाधनों और वन्यजीवों के संरक्षण और प्रबंधन का कार्य देखते हैं। वे विभिन्न पर्यावरण नीतियों और कार्यक्रमों को भी लागू करते हैं।

यहाँ उन सेवाओं की सूची दी गई है जो यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा (CSE) के अंतर्गत सारणीबद्ध हैंः

ServiceFull Form
Indian Administrative Service (IAS)भारतीय प्रशासनिक सेवा
Indian Police Service (IPS)भारतीय पुलिस सेवा
Indian Foreign Service (IFS)भारतीय विदेश सेवा
Indian Revenue Service (IRS)भारतीय राजस्व सेवा
Indian Postal Serviceभारतीय डाक सेवा
Indian Audit and Accounts Service (IAAS)भारतीय लेखा और लेखा परीक्षा सेवा
Indian Trade Service (ITS)भारतीय वाणिज्य सेवा
Indian Defense Accounts Service (IDAS)भारतीय रक्षा लेखा सेवा
Indian Information Service (IIS)भारतीय सूचना सेवा
Indian Corporate Law Service (ICLS)भारतीय कॉर्पोरेट लॉ सेवा
Indian Civil Accounts Service (ICAS)भारतीय सिविल लेखा सेवा
Indian Ordnance Factories Service (IOFS)भारतीय आयुध निर्माणियां सेवा
Indian Railway Traffic Service (IRTS)भारतीय रेलवे यातायात सेवा
Indian Revenue Service (Customs & Excise)भारतीय राजस्व सेवा (कस्टम्स और उत्पाद शुल्क)
Indian Defense Estates Service (IDES)भारतीय रक्षा एस्टेट सेवा
Indian Postal Service (Accounts & Finance)भारतीय डाक सेवा (लेखा और वित्त)
Indian Railway Accounts Service (IRAS)भारतीय रेलवे लेखा सेवा
Indian Railway Personnel Service (IRPS)भारतीय रेलवे कार्मिक सेवा
Indian Defense Accounts Service (IDAS)भारतीय रक्षा लेखा सेवा
Indian Trade Promotion Service (ITPS)भारतीय वाणिज्य प्रोत्साहन सेवा
Indian Supply Service (ISS)भारतीय आपूर्ति सेवा
Indian Statistical Service (ISS)भारतीय सांख्यिकी सेवा
Union Public Service Commission

UPSC परीक्षा का प्रकार | Type of UPSC Exam

UPSC परीक्षा को Civil Services Examination (CSE) के नाम से भी जाना जाता है। CSE को तीन चरणों में आयोजित किया जाता है:

UPSC exam is also known as Civil Services Examination (CSE). CSE is conducted in three stages:

  • Preliminary Exam: यह एक वस्तुनिष्ठ प्रकार की परीक्षा है जिसमें दो पेपर होते हैंः सामान्य अध्ययन और CSAT (Civil Services Aptitude Test). इस परीक्षा में प्राप्त अंकों को अंतिम रैंकिंग के लिए नहीं माना जाता, बल्कि केवल अगले चरण के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए गिना जाता है।
  • Mains Exam:यह एक वर्णनात्मक ( descriptive) प्रकार की परीक्षा है जिसमें नौ पेपर होते हैंः सामान्य अध्ययन के चार पेपर, निबंध का एक पेपर, वैकल्पिक विषय के दो पेपर और भाषा के दो पेपर ( भाषा के दो पेपर Qualifying nature) । इस परीक्षा में प्राप्त अंकों को अंतिम रैंकिंग के लिए गिना जाता है।
  • Interview: यह एक व्यक्तित्व परीक्षण है जो सेवा के लिए उम्मीदवारों की उपयुक्तता, उनकी मानसिक क्षमता, नेतृत्व कौशल, सामाजिक जागरूकता आदि का आकलन करता है। इस परीक्षा में प्राप्त अंकों को भी अंतिम रैंकिंग के लिए गिना जाता है।

UPSC परीक्षा के लिए योग्यता | Eligibility for UPSC Exam

UPSC परीक्षा के लिए निम्नलिखित योग्यता होनी चाहिए:

The following eligibility criteria should be met for UPSC exam:

  • Nationality: उम्मीदवार को भारत का नागरिक होना चाहिए या नेपाल या भूटान या एक तिब्बती शरणार्थी जो 1 जनवरी 1962 से पहले भारत आया था या भारतीय मूल का व्यक्ति जो पाकिस्तान, बर्मा, श्रीलंका, पूर्वी अफ्रीकी देशों, वियतनाम या मलावी से प्रवास कर गया था।
  • Age Limit: उम्मीदवार की आयु परीक्षा के वर्ष के 1 अगस्त को 21 से 32 वर्ष के बीच होनी चाहिए। सरकारी नियमों के अनुसार एससी/एसटी/ओबीसी/पीडब्ल्यूडी/पूर्व सैनिक श्रेणियों से संबंधित उम्मीदवारों के लिए आयु सीमा में छूट है।
  • Educational Qualification: उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री या समकक्ष योग्यता होनी चाहिए। जो उम्मीदवार अपनी डिग्री के अंतिम वर्ष में हैं या अपने परिणामों की प्रतीक्षा कर रहे हैं, वे भी आवेदन कर सकते हैं, लेकिन उन्हें मुख्य परीक्षा से पहले परीक्षा उत्तीर्ण करने का प्रमाण प्रस्तुत करना होगा।
  • Number of Attempts:उम्मीदवार यूपीएससी परीक्षा में सामान्य रूप से छह बार, ओबीसी के लिए नौ बार और एससी/एसटी उम्मीदवारों के लिए असीमित बार प्रयास कर सकता है। हालांकि, प्रयासों की संख्या को वर्ष 2011 के बाद से गिना जाएगा।

UPSC परीक्षा के लिए सुझाव | Tips for UPSC Exam

UPSC परीक्षा के लिए कुछ सुझाव निम्नलिखित हैं:

  • Be consistent: यूपीएससी परीक्षा में सफलता की कुंजी निरंतरता है। एक नियमित अध्ययन दिनचर्या का पालन करना चाहिए और अंत तक इसका पालन करना चाहिए।
  • Be updated:यू. पी. एस. सी. परीक्षा में समसामयिक घटनाएँ महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। प्रतिदिन समाचार पत्र और पत्रिकाएँ पढ़नी चाहिए और राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय घटनाओं और मुद्दों पर नज़र रखनी चाहिए।
  • Be focused:यूपीएससी परीक्षा के लिए ध्यान केंद्रित करना आवश्यक है। इसलिए ध्यान भटकने से बचें और अध्ययन पर ध्यान केंद्रित करे।
  • Be positive: यूपीएससी परीक्षा के लिए सकारात्मकता महत्वपूर्ण है। सकारात्मक दृष्टिकोण रखें और अपने आप पर विश्वास रखें। तनाव और चिंता से भी दूरी बनाए और शांत और आत्मविश्वासी बने।

FAQ

  1. UPSC kya hai?
    यूपीएससी (संघ लोक सेवा आयोग) एक भारतीय संविधान द्वारा स्थापित संस्था है जो सरकारी पदों की भर्ती और भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) जैसी कई श्रेणियों की परीक्षाएं आयोजित करता है।
  2. UPSC परीक्षाएँ कितनी प्रकार की होती हैं?
    UPSC विभिन्न प्रकार की परीक्षाएं आयोजित करता है जैसे कि सिविल सेवा परीक्षा, रक्षा सेवा परीक्षा, आईएएस परीक्षा, आईपीएस परीक्षा, इत्यादि।
  3. सिविल सेवा परीक्षा क्या होती है?
    सिविल सेवा परीक्षा भारत सरकार की विभिन्न सेवाओं में उम्मीदवारों की भर्ती के लिए एक व्यापक प्रकार की परीक्षा है, जिसमें IAS, IPS, IFS आदि शामिल हैं।
  4. UPSC परीक्षा के लिए योग्यता क्या है?
    सिविल सेवा परीक्षा के लिए योग्यता के लिए उम्मीदवार को एक मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री की आवश्यकता होती है।
  5. UPSC परीक्षा की तारीखें कब होती हैं?
    UPSC परीक्षा की तारीखें वर्ष के विभिन्न समयों पर घोषित की जाती हैं। सामान्यत: सिविल सेवा परीक्षा मई-जून में आयोजित होती है।
  6. परीक्षा का पैटर्न क्या होता है?
    सिविल सेवा परीक्षा का पैटर्न तीन चरणों में बाँटा गया होता है: प्रारंभिक परीक्षा (CSAT), मुख्य परीक्षा और व्यक्तिगतिक परीक्षा (साक्षात्कार)।
  7. UPSC की तैयारी के लिए सबसे महत्वपूर्ण संसाधन क्या है?
    UPSC की तैयारी के लिए सबसे महत्वपूर्ण संसाधन उपयुक्त पाठ्यक्रम, स्टडी मटेरियल, पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों का अध्ययन, साक्षात्कार की तैयारी, और न्यूज़पेपरों के माध्यम से सामयिक घटनाओं का संग्रह करना है।
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *