आन्तरिक_Motivation

जिंदगी मिली है तो जी भर के जियो…..

3 Best short Stories with moral in Hindi | प्रेरणादायक लघु कहानियाँ

3 Best short Stories with moral in Hindi | प्रेरणादायक लघु कहानियाँ

Powerful short Stories with moral -प्रेरक लघु कहानियाँ

यह Short Hindi stories with moral उन सभी लोगों के लिए है ,जो कही कार्यरत है | चाहे वे student हो teacher हो या कोई Entrepreneurs हो। यह story आपके जीवन में positive changes लाएगी।

1. Our Attitude towards things ( चीजों के प्रति हमारा नजरिया)

Short Hindi stories with moral
Short Hindi stories with moral

एक आदमी मेले में गुब्बारे बेचकर गुजर बसर करता था । उसके पास लाल ,नीले ,पीले ,हरे और इसके अलावा कई रंगों के गुब्बारे थे । जब उसकी बिक्री कम होने लगती तो वह हिलियम गैस से भरा एक गुब्बारा हवा में उड़ा देता। बच्चे जब उस उड़ते गुब्बारे को देखते तो वैसा ही गुब्बारा पाने के लिए आतुर हो उठते। वह उसके पास गुब्बारे खरीदने के लिए पहुंच जाते और उस आदमी की बिक्री फिर बढ़ने लगती।

उस आदमी की बिक्री जब भी घटती, वह उसे बढ़ाने के लिए गुब्बारे उड़ाने का यही तरीका अपनाता । एक दिन गुब्बारे वाले को महसूस हुआ कि कोई उसके जैकेट को खींच रहा है । उसने पलट कर देखा तो वहां एक बच्चा खड़ा था । बच्चे ने उससे पूछा “अगर आप हवा में किसी काले गुब्बारे को छोड़े तो क्या वह भी उड़ेगा?

“बच्चे के इस सवाल ने गुब्बारे वाले के मन को छू लिया । बच्चे की ओर मुंह कर उसने जवाब दिया, बेटे गुब्बारा अपने रंग की वजह से नहीं बल्कि उसके अंदर भरी चीज की वजह से उड़ता है।

Moral of the story:

यही सिद्धांत हमारे जीवन पर भी लागू होता है। जीवन के सबसे अहम चीज हमारी अंदरूनी शख्सियत है। हमारी अंदरूनी शख्सियत की वजह से हमारा जो नजरिया (attitude) बनता है। वही हमें ऊपर उठाता है।

2. Acres of Diamond (हीरों से भरा खेत)

motivational quotes
Short Hindi stories with moral

हाफिज अफ्रीका का एक किसान था। वह अपनी जिंदगी में खुश और संतुष्ट था। हाफिज खुश इसलिए था, कि वह संतुष्ट था। वह संतुष्ट इसलिए था, क्योंकि वह खुश था। एक दिन एक अकलमंद आदमी उसके पास आया उसने हाफिज को हीरो के महत्व और उनसे जुड़े ताकत के बारे में बताया। उसने ऑफिस से कहा अगर तुम्हारे पास अंगूठे जितना भी बड़ा हीरा हो तो तुम पूरा शहर खरीद सकते हो। और अगर तुम्हारे पास मुट्ठी जितना बड़ा हीरा हो तो तुम अपने लिए शायद पूरा देश ही खरीद लो।

वह अकलमंद आदमी इतना कह कर चला गया। उस रात हाफिज सो नहीं सका वह असंतुष्ट हो चुका था। इसलिए उसकी खुशी भी खत्म हो चुकी थी ।दूसरे दिन सुबह होते ही हाफिज ने अपने खेतों को बेचने और अपने परिवार की देखभाल का इंतजाम किया। और हीरे खोजने के लिए रवाना हो गया।

हीरो की खोज में पूरे अफ्रीका में भटकता रहा पर उन्हें पा ना सका। उसने उन्हें यूरोप में भी ढूंढा पर वह उसे वहां भी नहीं मिले ।स्पेन पहुंचते-पहुंचते वह मानसिक शारीरिक और आर्थिक स्तर पर पूरी तरह टूट चुका था। इतना मायूस हो चुका था कि उसने बार्सिलोना नदी में कूदकर खुदकुशी कर ली।

इधर जिस आदमी ने हाफिज के खेत खरीदे थे। वह 1 दिन उन खेतों से होकर बहने वाले नाले में अपने ऊंटो को पानी पिला रहा था। तभी सुबह के वक्त उग रहे सूरज की किरणें नाले के दूसरी ओर पड़े एक पत्थर पर पड़ी, और वह इंद्रधनुष की तरह जगमगा रहा था।

यह सोच कर कि वह पत्थर उसकी बैठक में अच्छा दिखेगा । उसने उसे उठाकर अपनी बैठक में सजा दिया ।उसी दिन दोपहर में हाफिज को हीरो के बारे में बताने वाला आदमी खेतों के इस नए मालिक के पास आया। उसने उस जगमगाते हुए पत्थर को देखकर पूछा क्या हाफिज लौटा आया।

नए मालिक ने जवाब दिया नहीं । लेकिन आपने यह सवाल क्यों पूछा? अकलमंद आदमी ने जवाब दिया, क्योंकी यह हीरा है l मैं उन्हे देखते ही पहचान जाता हूं। नए मालिक ने कहा नहीं यह तो महज एक पत्थर है। मैंने इसे नाले के पास से उठाया ।आइए मैं आपको दिखाता हूं वहां पर ऐसे बहुत सारे पत्थर पड़े हुए हैं। उन्होंने वहां से नमूने के तौर पर बहुत सारे पत्थर उठाएं, और उन्हें जांचने परखने के लिए भेज दिया। पत्थर हीरे ही साबित हुए उन्होंने पाया कि उस खेत में दोष दूर दूर तक हीरे दबे हुए थे।

Moral of the story:

a) इससे हमें यह सीख मिलती है कि मौके हमेशा हमारे पांव तले दबे हुए हैं। हमें उनकी तलाश में कहीं जाने की जरूरत नहीं। हमें केवल उनको पहचान लेना है।
b) हम दूसरों के पास मौजूद चीजों को देखकर ललचाते हैं ,और इसी तरह दूसरे हमारे पास चीजों को देखकर ललचाते हैं।

c) जिन्हे मौके की पहचान नहीं होती, उन्हें मौके का खटखटाना शोर लगता है। और जब मौका आता है, तो लोग उसकी अहमियत नहीं पहचानते और जब मौका जाने लगता है, उसके पीछे भागते है।

d) कोई मौका दोबारा नहीं आता। दूसरा मौका पहले वाले मौके से बेहतर या बदतर हो सकता है ।पर वह ठीक पहले वाले जैसा नहीं हो सकता। इसलिए सही वक्त पर सही फैसला लेना बेहद जरूरी होता है।

3. Devid and Goliath ( डेविड और गोलियथ)

नजरिया
Short Hindi stories with moral

हम सभी बाइबल में बताई गई डेविड और गोलियथ की कहानी को जानते हैं। गोलियथ यह एक राक्षस था। उसने हर आदमी के दिल में अपनी दहशत बैठा रखी थी। 1 दिन 17 साल का एक भेड़ चराने वाला लड़का अपने भाइयों से मिलने के लिए आया। उसने पूछा , तुम लोग इस राक्षस से लड़ते क्यों नहीं। उसके भाई गोलियथ से डरते थे। उन्होंने जवाब दिया ,क्या तुमने देखा वह इतना बड़ा है, कि उसे मारा नहीं जा सकता।

इस पर डेविड ने कहा , बात यह नहीं है कि बड़ा होने की वजह से उसे मारा नहीं जा सकता।बल्कि हकीकत यह है , कि वह इतना बड़ा है कि उस पर लगाया गया निशाना चूक ही नहीं सकता। उसके बाद जो हुआ वह सबको मालूम है ।डेविड ने उस राक्षस को गुलेल से मार डाला। राक्षस वही था , लेकिन उसके बारे में डेविड का नजरिया (attitude) अलग था।

Moral of the story:

हम नाकामयाबी को कैसे देखते हैं, यह हमारे नजरिए (attitude) से तय होता है । आशावादी (positive) सोच वाले आदमी के लिए नजरिया (attitude) कामयाबी की सीढ़ी बन सकता है । दूसरी ओर निराशावादी(Negative) सोच के आदमी के लिए यह रास्ते का रोड़ा बन सकता है।

7 powerful tips to be a resultmaker in Hindi.

Thank you😊

Inspirational shorts stories in hindi

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.