Skip to content

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा: भारत के लिए एक ऐतिहासिक क्षण

22 जनवरी, 2024 को भारत ने एक ऐतिहासिक क्षण देखा, जब अयोध्या में राम मंदिर का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया। प्राण प्रतिष्ठा समारोह, जिसमें बाल राम की मूर्ति, भगवान राम के युवा अवतार, को पवित्र किया गया, में 7,000 से अधिक अतिथि शामिल हुए, जिनमें विदेशी गणमान्य, आध्यात्मिक नेता, आदिवासी प्रतिनिधि और मशहूर हस्तियां शामिल थीं।

gussa

क्रोध का उबाल: हम गुस्से क्यों होते हैं?

गुस्सा केवल उग्र विचारों का परिणाम नहीं है, बल्कि हमारे शरीर में होने वाले रासायनिक और शारीरिक परिवर्तनों द्वारा भी संचालित होता है. जब हम किसी अप्रिय स्थिति का सामना करते हैं, हमारा मस्तिष्क हार्मोन एड्रेनालाईन और कॉर्टिसोल का उत्पादन बढ़ाता है. ये हार्मोन हमारे हृदय गति बढ़ाते हैं, रक्तचाप को ऊपर उठाते हैं, और मांसपेशियों को संकुचित करते हैं, जिससे शरीर लड़ाई या भागने की प्रतिक्रिया के लिए तैयार हो जाता है.

RADHA KRISHNA

राधा कृष्ण और उनका अमर प्रेम: क्यों राधा का नाम सदा कृष्ण के संग जुड़ा?

एक ऐसा प्रेम जिसने सामाजिक बंधनों को तोड़ दिया, जिसने आत्मा के मिलन को सबसे ऊपर रखा, वही प्रेम जिसकी गूंज सदियों तक गूंजती है। आज हम बात करेंगे उसी अमर प्रेम की, उसी राधाकृष्ण की कहानी की, जिससे आधुनिक समय में भी हम बहुत कुछ सीख सकते हैं।

जीवन में प्रेम की जरूरत: क्यों प्रेम एक अनमोल उपहार है –

प्रेम, एक ऐसा शब्द, जिसके मायने हर किसी के लिए अलग-अलग हो सकते हैं. किसी के लिए यह माँ का लाड, किसी के लिए प्रेमी की निष्ठा, तो किसी के लिए दोस्तों का साथ. चाहे जो भी रूप हो, प्रेम हमारे जीवन को अर्थ और उद्देश्य प्रदान करता है. यह भावना हमें कमज़ोरियों में सहारा देती है, सफलता में खुशियाँ बढ़ाती है और जीवन के सफ़र को आसान बनाती है.

padhai

पढ़ाई में मन लगाने के लिए 5 टिप्स | अब पढाई करना होगा आसान

पढ़ाई करना वास्तव में कठिन हो सकता है, खासकर जब आप कुछ नया या कठिन सीख रहे हों। कभी-कभी ऐसा होता है जब ध्यान केंद्रित करना कठिन हो जाता है, आप आसानी से विचलित हो जाते हैं, या आपका काम खत्म करने का मन नहीं करता है। लेकिन घबराना नहीं!

UPSC

UPSC Syllabus Hindi में | सफलता की दिशा में एक कदम आगे

UPSC पाठ्यक्रम 2024 एक व्यापक और विस्तृत दस्तावेज है जिसके माध्यम से उम्मीदवार पूरी तरह से और व्यवस्थित तैयारी करते है। केवल पाठ्यक्रम को पढ़ना पर्याप्त नहीं है; परीक्षा की अपेक्षाओं और मांगों को स्पष्ट रुप से समझना होगा, इसका विश्लेषण करना होगा और इसे पिछले वर्ष के प्रश्नों (PYQs) के साथ जोड़ना होगा। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम आपको कुछ सुझाव और strategy प्रदान करेंगे कि पाठ्यक्रम को कैसे पढ़ा जाए और इसे CSE 2023 में सफल होने के लिए PYQs के साथ कैसे जोड़ा जाए।

UPSC

UPSC की तैयारी कैसे करे? | अपने पहले प्रयास में UPSC CLEAR करे

UPSC की तैयारी में पहला कदम परीक्षा पैटर्न और पाठ्यक्रम को अच्छी तरह से समझना है। आपको परीक्षा के प्रत्येक चरण के पेपरों की संख्या, अंक, अवधि, विषय और उप-विषयों के बारे में पता होना चाहिए। आपको परीक्षा के लिए नकारात्मक अंकन योजना, कट-ऑफ अंकों और पात्रता मानदंडों के बारे में भी पता होना चाहिए।

padhai

UPSC क्या है? | जानिए UPSC का महत्व

UPSC का फुल फॉर्म Union Public Service Commission है और हिंदी में संघ लोक सेवा आयोग कहते हैं। UPSC एक संघीय संस्था है जो भारत में केंद्रीय और राज्य सरकार के तहत 24 सेवाओं के लिए राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगी परीक्षाएं आयोजित करता है। UPSC की स्थापना 1 अक्टूबर 1926 को हुई थी और इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है।

ॐ (Om): वेद और उपनिषदों में सबसे पवित्र ध्वनि और उसका अर्थ

जिस मौलिक कंपन से पूरा ब्रह्मांड उत्पन्न होता है, (ओम) हिंदू धर्म की पवित्र ध्वनि का बहुत महत्व है। ओम सभी अस्तित्व के परस्पर जुड़ाव को दर्शाता है और इसकी जड़ें वेद, उपनिषद और वेदांत जैसे प्राचीन वैदिक साहित्य में निहित हैं। यह लेख ओम के इतिहास, अर्थ और प्रतीकवाद में गोता लगाता है, यह देखते हुए कि यह कैसे जागृत, सपने देखने और चेतना की गहरी नींद की अवस्थाओं का प्रतिनिधित्व करता है। जानें कि ओम जप और ध्यान कैसे आध्यात्मिक जागृति और दिव्य के साथ एक गहरा संबंध बना सकते हैं। हिंदू धर्म में, ओम की पवित्र ध्वनि में लिपटे गहन ज्ञान के माध्यम से यात्रा शुरू करें।

ROMANTIC SHAYARI

दिल की बातें: हिंदी शायरी में प्यार के मधुर छंद | Love shayari in Hindi

मैंने कब कहा के मुझकों अबके अब समझ के देख…
फ़ुर्सत मिले दुनियां से मुझकों तब समझ कर देख…

तू है अगर हवा तो मुझे परिन्दा मान ले…
तू है अगर दरिया तो मेरी तलब समझ कर देख…